अमेठी के एसएचओ, दरोगा और कांस्टेबल सस्पेंड

0
447

अमेठी से लखनऊ पहुंचकर सीएम आवास के सामने मां और बेटी ने आत्मदाह का प्रयास के मामले में तूल पकड़ लिया है। अमेठी के एसएचओ, दरोगा और दो कांस्टेबल पर गाज गिरी है। अमेठी डीएम अरुण कुमार ने थाने में मां-बेटी की सुनवाई न करने वाले पुलिसवालों को निलम्बित कर दिया है। मां-बेटी गंभीर रूप से जल गई हैं। उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है। डॉक्टर ने मां की हालत गंभीर बताई है जबकि बेटी खतरे से बाहर है।

अस्पताल में भर्ती गुड़िया (28) ने बताया कि वह जामो अमेठी की निवासी हैं। उसके घर से नाली का पानी नहीं निकल रहा है।  उसने जब नाली साफ करनी चाही तो गांव में रहने वाले दबंग अर्जुन, सुनील, राजकारण, राममिलन ने उसकी मां सोफिया (50) पर हमला कर दिया था। उसने बताया कि उसका उसके पड़ोसी अर्जुन साहू से 9 मई को विवाद हुआ था। विरोध करने पर उसकी भी पिटाई कर दी थी। गुड़िया जब जामो थाना पहुंची तो दबंग वहां भी आ गए और पुलिस के सामने उसे थाने से बाहर भगाने लगे। उच्चाधिकारियों के हस्तक्षेप पर आरोपितों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। इसके बाद दोनों घर वापस आ गईं। आरोप है कि पुलिस ने दबंगों से साठगांठ करके उल्टा उसके ऊपर मुकदमा लिख दिया।

गुड़िया ने बताया कि पड़ोसी से विवाद के बाद उसकी तहरीर पर पुलिस ने जामो थाने में अर्जुन साहू समेत चार लोगों के खिलाफ 323, 354 का मुकदमा दर्ज कर लिया था। उधर, बचाव में अर्जुन साहू ने भी गुड़िया और उसकी मां के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया। अर्जुन की तहरीर पर गुड़िया पर धारा 323, 452, 308 का मुकदमा दर्ज हुआ। गुड़िया ने बताया कि अर्जुन साहू की पुलिस के साथ अच्छी साठगांठ के चलते उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही थी। जिस वजह से महिला आला अधिकरियों तक अपनी बात पहुंचाने लखनऊ आई और विधानसभा गेट नंबर 3 के सामने अपनी बेटी के साथ खुद को आग के हवाले कर दिया।

डीएम अरुण कुमार और एसपी ख्याति गर्ग पीड़िता के घर पहुंचे। उन्होंने निरीक्षण करने के बाद मामले में जामो थाने की लापरवाही पाई। डीएम अरुण कुमार ने बताया कि लापरवाही बरतने वाले जामो के एसएचओ रतन सिंह, हल्का के दरोगा ब्रह्मानंद तिवारी और दो सिपाहियों समेत चार को सस्पेंड कर दिया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here