अलीगढ़ मेडिकल में सेंट्रल कंट्रोल रूम स्थापित

0
317
अलीगढ़ । कोविड-19 से ग्रस्त रोगियों की पूरी तत्परता के साथ बेहतर प्रबन्धन के लिये अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहर लाल नेहरू मेडीकल कालिज में एक सैंट्रल कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया है,जो टैली मेडीसिन टैक्नालोजी की सुविधाओं से पूरी तरह लैस है। यह कन्ट्रोल रूम कंसलटैंट चिकित्सकों के लिये आइसोलेशन वार्ड में रेजीडैन्ट डाक्टरों और नर्सिंग स्टाफ के साथ समन्वय बनाये रखने में सहायक सिद्व होगा जिससे कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में चिकित्सा सुविधाओं को और प्रभावी बनाया जस सके।
जेएन मेडीकल कालिज के प्राचार्य प्रोफेसर शाहिद अली सिद्दीकी की निगरानी में यह कन्ट्रोल रूम कार्य कर रहा है। उन्होंने कहा कि पूरी तत्परता के साथ यह कन्ट्रोल रूम सैन्टर चैबीस घंटे काम कर रहा है और रोगियों के प्रबन्धन में फौरी तौर पर सुविधायें उपलब्ध कराने में बहुत ही कारगार साबित हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रोटोकोल, प्रबन्धन, कल्याण आदि से सम्बन्धित विभिन्न कमैटियों से जुड़े तकनीकी विशैषज्ञ और फैकल्टी सदस्यों के साथ बेहतर तौर पर तालमेल करने में इससे मदद मिल रही है।
प्रोफेसर सिद्दीकी ने कहा कि कोरोना वायरस की इस बीमारी के दौरान जेएन मेडीकल कालिज में टैलीमेडीसिन टैक्नालोजी बहुत ही मुफीद और कारगर हथियार के तौर पर उभर कर सामने आई है और इसे व्यापक पैमान पर अपनाया गया है। उन्होंने कहा कि संक्रमित व्यक्ति से शारीरिक निकटता में आये बिना हर समय चिकित्सीय देखभाल की जरूरत के अन्तर्गत टैलीमेडीसिन से सुविधायें पहुचाना आसान हुआ है।
प्रोफेसर सिद्दीकी ने आगे कहा कि माइक्रोबायोलोजी की बीआरडीएल लैब प्रोफेसर हारिस एम खान के नेतृत्व में शानदार काम कर रहा है और तीन शिफ्टों में चैबीस घंटे कोविड-19 की जांच हो रही है जिसमें अलीगढ़ ही नहीं बल्कि पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश से प्राप्त होने वाले नमूनों की जांच की जा रही है।
प्रोफेसर हारिस एम खान ने बताया कि बुखार की क्लीनिक 6 मई से नये ओपीडी ब्लाक की साइकेटरी ओपीडी में प्रातः 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक चलेगी।
दूसरी तरफ जनसंपर्क कमेटी के सदस्य डा. अब्दुल वारिस के अनुसार कोविड-19 आसोलेशन वार्ड में भर्ती दस रोगियों में एक रोगी कोविड निगेटिव हो गया है जबकि एक रोगी की हालत अब भी चिंताजनक है। दूसरी ओर बुखार की क्लीनिक में प्रतिदिन चालीस रोगियों का इलाज किया जा रहा है।
यह भी उल्लेखनीय है कि जवाहर लाल नेहरू मेडीकल कालिज को कोविड-19 के गंभीर रोगियों के इलाज के लिये एल-2 कोविड-19 हस्पताल घोषित कर दिया गया है। उसके उपरान्त भी दूसरे मेडीकल कालिजों और हस्पतालों की तरह अन्य स्वास्थय सुविधाओं को रोका नहीं गया है। इस कड़ी में तपेदिक और टीवी और रैसपायरेट्री बीमारियों के विभाग ने हैल्प लाइन नम्बर 9412175925 जारी किया है जिस पर प्रोफेसर जुबैर टीवी के रोगियों को सोमवार से जुमैरात तक दस बजे से दोपहर 12 बजे तक परामर्श के लिय उपलब्ध रहेंगे।
इसके अतिरिक्त एएमयू के डा. जियाउद्दीन अहमद डैन्टल कालिज व हस्पताल के द्वारा भी टैलीमेडीसिन सेवाओं को शुरू किया गया है। जहां पर विभिन्न विभागों के 36 दन्त चिकित्सक, दांतों की बीमारियों से परेशान मरीजों को फोन/मोबाइल पर स्वास्थय सम्बन्धि जानकारी उपलब्ध करायेंगे।
डैन्टल कालिज के प्राचार्य प्रोफेसर आरके तिवारी ने उक्त सूचना देते हुए बताया कि इसके साथ ही अगर किसी मरीज को आपातकालीन इलाज की जरूरत है तो वह जेएन मेडीकल कालिज के ट्रामा सेंटर में डैन्टल इमरजेैंसी आ सकता है।
हाजिरी के लिए समय तय
अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के समस्त कार्यालय जिसमें विभागों, केन्द्रों, कालिजों और स्कूलों आदि के कार्यालय शामिल हैं। 6 मई से प्रातः 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक खुले रहेंगे जिसमें 33 प्रतिशत हाजिरी प्रत्येक कार्यालय में होनी चाहिये। जो भी कर्मचारी कानटैनमैन्ट क्षेत्र में रहते हैं जिसकी घोषणा जिला प्रशासन द्वारा की गई है उनको इस कार्य से मुक्त रखा गया है।
यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार श्री अब्दुल हमीद आईपीएस द्वारा जारी नोटिस में कहा गया है कि सम्बन्धित विभागाध्यक्ष तैतीस प्रतिशत हाजिरी को रोटेशन के ऐतबार से स्वयं तय करें।
यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार ने यह भी स्पष्ट किया है कि आवश्यक सेवायें जैसे मेडीकल, सैनीटेशन, बिजली, पानी, आवासीय हालों, सैन्ट्रल आटोमोबाइल वर्कशाप आदि में कार्यरत कर्मचारी यथावत अपनी सेवायें पूर्व की तरह अपने विभागाध्यक्षों और कार्यालय अध्यक्षों के निर्देशन का पालन करते रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here