एएमयू: एक से पंद्रह जुलाई के बीच होंगे पेपर्स

0
178
अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में दसवीं और बारहवीं कक्षा की परीक्षाऐं 1 जुलाई से 15 जुलाई 2020 के मध्य होंगी। एएमयू स्कूल शिक्षा निदेशालय के निदेशक प्रोफेसर असफर अली खान ने बताया कि परीक्षा से 10 दिन पूर्व परीक्षा का शेडयूल परीक्षा नियंत्रक द्वारा वेबसाइट  www.amucontrllerexams.com पर जारी किया जायेगा। उन्होंने छात्रों को सुझाव दिया कि वह वेबसाइट को देखते रहें।
प्रोफेसर असफर अली खान ने आगे कहा कि स्कूल की आनलाइन कक्षाऐं 15 मई तक चलेंगी। और छात्रों को होम टास्क, एसाइनमेंट, प्रोजेक्ट आदि 16 से 21 मई के मध्य दिये जायेंगे। इसके साथ ही छात्रों की आनलाइन सहायता के लिये उनकी सुविधानुसार शिक्षक 29 मई से 15 जून तक उपलब्ध रहेंगे। गर्मियों की छुट्टियों के बाद कक्षाऐं प्रारंभ होने की सूचना बाद में दी जायेगी।
अलीगढ़ 13 मईः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र, पूर्व एमएलए तथा लिंक लोक्स के सीएमडी श्री जफर आलम ने एएमयू के जवाहर लाल नेहरू मेडीकल कालिज को 100 पीपीई किट दान दिये हैं। यह किट उन लोगों को दिये जायेंगे जो कोविड 19 रोगियों के सीधे सम्पर्क में आ रहे हैं।
जेएनएमसी के प्रिन्सिपल प्रोफैसर शाहिद अली सिद्दीकी ने श्री जफर आलम के प्रतिनिधि से यह किट प्राप्त किया और उनको धन्यवाद दिया। उन्होंने एएमयू के पूर्व छात्र व छात्राओं से कोरोना वायरस के विरूद्व लड़ाई में एएमयू की सहायता करने की अपील की। प्रोफेसर सिद्दीकी के अनुसार श्री जफर आलम ने जेएनएमसी को और किट तथा अन्य चिकित्सीय उपकरण उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया है।
जेएनएमसी के मेडीकल सुप्रिंटेंडेंट प्रो. हारिस मंजूर खान, डिप्टी मेडीकल सुप्रिटेंडेंट डा. उबैद सिद्दीकी और कार्डियोथोरेसिक सर्जरी विभाग के डा. आजम हसीन ने कहा कि श्री जफर आलम, कार्डियोलोजी तथा कार्डियोथोरोसिक सर्जरी विभाग में गरीब मरीजों की मुफ्त सर्जरी कराते रहते हैं। ऐसे नेक कामों में उनकी सहायता अति प्रशंसनीय है।
अध्यक्ष नियुक्त
अलीग।  एसोसिएट प्रोफेसर डा. मोहम्मद इरफान को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के म्यूजोलोजी विभाग का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। उनका कार्यकाल 14 मई 2020 से उनके सेवानिवृत होने तक रहेगा।
दो और मरीज ठीक हुए
अलीगढ़ । अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जवाहर लाल नेहरू मेडीकल कालिज से आज 2 और मरीज जिनकी आयु 50 से 60 वर्ष के बीच है कोरोना वायरस से मुक्ति पाने के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया।
59 वर्षीय रोगी का इलाज प्रो. आर भार्गवा, प्रोफेसर एमएस जहीर, प्रोफेसर एम शमीम तथा डा. हसन आमिर की टीम ने किया जबकि 60 वर्षीय महीला का इलाज डा. लुबना ज़फर, डा. वलीम, डा. जेड अहमद, डा. इमराना और प्रोफेसर एम शमीम ने किया।
एएमयू कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने जेएनएमसी के चिकित्सकों एवं स्वास्थय कर्मियों के अथक प्रयासों की सराहना करते हुए उनके द्वारा रोगियों के समुचित उपचार पर संतोष व्यक्त किया।
जेएनएमसी के प्रिन्सिपल एवं सीएमएस प्रोफेसर शाहिद अली सिद्दीकी ने कहा कि कोरोना वायरस से स्वस्थय होने के बाद अभी तक 10 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है।
प्रोफेसर शाहिद अली सिद्दीकी, प्रो. हारिस मंजूर तथा डा. वासिफ ने इन मरीजों के डिस्चार्ज होने पर उनका स्वागत एवं उत्साहवर्धन किया।
जेएनएमसी के कोविड वार्ड में 12 चिकित्सकों, 12 नर्सों, 8 अडेंटेंट्स और 8 सफाई कर्मियों की चार टीमें दिन-रात कार्य कर रही हैं।
डा. अब्दुल वारिस डिप्टी मेडीकल सुप्रिंटेंडेंट के अनुसार कोविड वार्ड में 6 मरीजों का इलाज किया जा रहा है।
जेएनएमसी के माइक्रोबायोलोजी विभाग के अध्यक्ष प्रो. हारिस मंजूर ने बताया कि जेएनएमसी में अब तक 8165 कोरोना वायरस नमूनों की जांच की गई है और 195 नमूनों को संक्रमित पाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here