ऑन लाइन वर्क शॉप में सैकड़ों छात्रों ने दिखाया हुनर

0
1125
अलीगढ़ । अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के वाणिज्य विभाग ने ‘बेसिक्स ऑफ इकोनोमेट्रिक्स’ पर एक आनलाइन कार्यशाला का आयोजन किया जिसमें विशेषज्ञों ने आर्थिक प्रणालियों का वर्णन करने के लिए गणितीय तरीकों पर चर्चा की तथा सांख्यिकीय विधियों का अनुप्रयोग, आर्थिक संबंधों के लिए अनुभवजन्य सामग्री और अन्य विषयों पर प्रकाश डाला।
कार्यक्रम के रिसोर्स पर्सन डॉ मोहम्मद नैयर रहमान (असिस्टेंट प्रोफेसर, डिपार्टमेंट ऑफ कॉमर्स), जो कि इकोनोमेट्रिक्स सोसाइटी, यूएसए के सदस्य भी हैं, ने इकोनोमेट्रिक्स सिद्वांतों, पद्वंतियों तथा अन्य सम्बन्धित मुद्दों की चर्चा की।
स्वागत भाषण देते हुए, प्रोफेसर नवाब अली खान (अध्यक्ष, वाणिज्य विभाग) ने शोध छात्रों के सामने डाटा विश्लेषण में इकोनोमेटिक्स के बढ़ते हुए महत्व का उल्लेख किया।
जबकि, प्रो इमरान सलीम ने भविष्य के अनुसंधान में इकोनोमेट्रिक्स के उपयोग पर टिप्पणी की तथा विभिन्न उदाहरणों से इसे समझाया।
इकोनोमेट्रिक्स में डेटा के विभिन्न प्रकार और सम्बन्धित सिद्वांतों पर पर अलग-अलग सत्र भी आयोजित किये गये। ऑनलाइन कार्यशाला में 100 से अधिक शोध छात्र तथा संकाय सदस्यों ने भाग लिया।
ऑन लाइन वर्क शॉल शुरू
अलीगढ़ । अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के दूरस्थ शिक्षा केन्द्र ने एसपीएसएस साफ्टवेयर की सहायता से ‘डेटा एनालिसिस’ के विषय पर एक आनलाइन वर्कशाप का आज उद्घाटन किया। यह वर्कशाप दो जून को समाप्त होगी।
दूरस्थ शिक्षा केंद्र के निदेशक प्रोफेसर एम नफीस ए अंसारी ने बताया कि वर्कशाप पहले 9 मार्च से 15 मार्च के मध्य आयोजित होने वाली थी परन्तु कोरोना वायरस के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था।
वर्कशाप के पहले सत्र में डॉ एस एम खान हर दिन सांख्यिकीय सैद्धांतिक पर चर्चा करेंगे। और कार्यक्रम के विभिन्न सत्रों में एसपीएसस का प्रशिक्षण प्रदान करेंगे।
प्रतिभागियों को प्रतिदिन एसाइनमेंट दिये जायेंगे। जिन्हें उसी दिन आनलाइन जमा करना होगा। इससे शोध छात्रों को डाटा विश्लेषण और उसके निष्कर्ष निकालने में उचित सहायता मिलेगी।
अलीगढ़ 28 मईः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट आफिस जनरल द्वारा आईडीपी एजूकेशन के सहयोग से ‘‘कोविड-19’’ के उपरान्त विदेशों में शिक्षा और रोजगार की संभावना के विषय पर एक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया।
प्रोफेसर असफर अली खान (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग) ने कहा कि विश्वविद्यालय ने अपनी परीक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिये विशेष प्रयास किये हैं तथा आनलाइन परीक्षा हो रही हैं ताकि छात्र व छात्राओं का शैक्षणिक नुकसान न हो। उन्होंने कहा कि छात्र सूचना प्रौद्योगिकी का प्रयोग ज्यादा से ज्यादा सीखें ताकि कोविड-19 जैसी महामारी के समय वह अवसरों का उचित लाभ उठा सकें।
प्लेसमेंट अधिकारी साद हमीद ने बताया कि वर्कशाप के प्रतिभागियों को विभिन्न अन्तर्राष्ट्रीय विद्यवविद्यालयों में प्रवेश के लिये आवेदन करने के तौर तरीके और उनकी तिथियों के बारे में जानकारी प्रदान की। छात्रों को विभिन्न प्रवेश से सम्बन्धित विभिन्न परीक्षाओं तथा स्कालरशिप अवसरों की भी जानकारी दी गई।
आईडीपी टीम के सदस्यों, हुताश नरूला, ललित मल्होत्रा, रुचिका बेहरा,  शयंति अरोरा और  कवलजीत कौर ने संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में शैक्षिक तथा अन्य यूरोपीय व अमरीकी दे शों में शिक्षा व रोजगार के अवसरों की जानकारी उपलब्ध कराई। डा. मंसूर आलम सिद्दीकी ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here