कोरोना: अमेरिका ने निपटने के लिए वेक्सीन का किया पहला प्रयोग

0
129

राजीव शर्मा। अमेरिका ने कोरोना वायरस के लिए तैयार की जा रही वैक्सीन का पहला परीक्षण सिएटल शहर में एक 43 वर्षीय महिला की जेनिफर हॉलर आजमाया है। के के पी वॉशिंगटन रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक और स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने सतर्कता से  चार मजबूत इच्छाशक्ति वाले सेहतमंद लोगों को परीक्षण के लिए चुना है।

जेनिफर हॉलर के दो बच्चे हैं। वैक्सीन के परीक्षण का पहला इंजेक्शन लगवाने के बाद जेनिफर ने खुशी जताई। कहा उन्हें बहुत अच्छा लग रहा है।

टीम लीडर डॉ. लीजा जैक्सन मानती हैं कि वैक्सीन के पहले चरण में परीक्षण के लिए तैयार इन चार लोगों के साथ अब हम टीम कोरोना वायरस हो गए हैं। ऐसे मौके पर हर कोई यही चाहता है कि इस आपात स्थिति से निपटने के लिए वह क्या और कैसे करें। जेनिफर सीटेल में ही एक टेक कंपनी में ऑपरेशन मैनेजर हैं।

इनके अलावा तीन और लोगों को इस परीक्षण का इंजेक्शन लगाया जाना है। इसके अलावा 45 अन्य लोगों को भी इसका हिस्सा बनाया जाएगा और इन्हें एक महीने के बाद दो और डोज दिए जाएंगे।

ब्रॉथल उनिंग भी एक माइक्रोसॉफ्ट नेटवर्क इंजीनियर का कहना है कि उनकी बेटियां इस तरह के सामाजिक काम के लिए उन्हें बेहद प्रोत्साहित करती हैं और गर्व महसूस करती हैं। उनकी बेटियां मानती हैं कि ये दुनिया के उन तमाम लोगों को बचाने के लिए बेहद जरूरी है कि कोई न कोई तो यह जोखिम उठाए।

यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के डॉ एंथनी फॉसी का कहना है कि अगर यह परीक्षण कामयाब रहा तो अगले 12 से 18 महीनों के बाद ही यह वैक्सीन दुनिया भर में इस्तेमाल की जा सकेगी। गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस परीक्षण से उम्मीद जताते हुए दावा किया है कि जुलाई तक अमेरिका कोरोना से मुक्त हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here