कोरोना टेस्ट कराना जायज

0
941

रोजे की हालत में कोरोना टेस्ट कराने के लिए नाक या मुंह से सैंपल देना जायज है। इससे रोजा नहीं टूटेगा। दारुल उलूम ने कोरोना वायरस रोजे पर एक फतवा दिया है। यह फतवा इफ्ता विभाग के पैनल में शामिल मुफ़्तियों ने दिया।

बिजनौर के स्योहरा निवासी अरशद अली तंजीम दावतो सिदक नामक संगठन के संचालक हैं। उन्होंने दारुल उलूम के इफ्ता विभाग में मुफ्तियों से सवाल किया कि रोजे की हालत में कोरोना टेस्ट कराने के लिए क्या हुक्म है, इससे रोजा तो नहीं टूटेगा। इसका जवाब देते हुए मुफ्तियों की खंडपीठ ने कहा कि कोरोना के टेस्ट के लिए हलक (मुंह) या नाक में रुई लगी जो स्टिक डाली जाती है, उस पर कोई केमिकल या दवा लगी नहीं होती। यह एक बार ही मुंह में डाली जाती है। उस पर मुंह से जो गीला अंश लगता है, उसे मशीन के जरिए चेक किया जाता है। इसलिए कोरोना टेस्ट कराने से रोजा नहीं टूटेगा। मुंह आदि में स्टिक देने से रोजे पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here