मेडिकल कॉलेज से पहले जमीन की कीमत पर फोकस

0
631

सीवरेज फार्म में मौके पर समस्या के बाद भी प्रस्ताव भेजा गया

जिला प्रशासन अभी और प्रस्ताव भेजेगा

राजीव शर्मा। हाथरस को मिले मेडिकल कॉलेज की आड़ में जमीन के मूल्य बढ़ाने की राजनीति शुरू हो गई है। इसकी स्थापना कुछ सफेद पोश उस जगह को बनाए रखने की रणनीति बना रही हैं, जहां कार का निकलना भी मुश्किल है। दो टूक कहा जा सकता है कि मरीज़ो की जान से पहले जमीन की कीमत को ऊंचा किया जा रहा है। जिला प्रशासन ने जमीन में कठिनाई को स्वीकार कर लिया है। फिर भी सीवरेजे जमीन का प्रस्ताव भेज दिया गया है। हालांकि प्रस्ताव और भी होगा।

योगी सरकार ने अलीगढ़ मंडल में कासगंज और हाथरस के लिए मेडिकल कॉलेज खोलने का निर्णय लिया है। कम से कम पन्द्रह एकड़ भूमि 4 मार्च तक पूछी गई थी। सांसद राजवीर सिंह दिलेर की बैठक में हुई बैठक में कमेटी के सदस्य योगेश शर्मा ने मेडिकल कॉलेज सासनी में नेशनल हाईवे पर खाली पड़ी सरकारी जमीनों पर खुलवाने का प्रस्ताव रखा। एक जनप्रतिनिधि ने सीवरेज स्थल की जमीन का प्रस्ताव रखा। मौजूद कई सदस्यों ने स्पष्ट कहा कि यहां मेडिकल कॉलेज बना तो गाड़ी के निकलने में दिक्कत होगी और मरीज की जान खतरे में पड़ जाएगी। जमीन तो और भी है। इसमें कमेटी सदस्य योगेश शर्मा ने सासनी के गांव सुसायत कलां में नेशनल हाईवे 93 के पास जमीन के कागजात रखे जो जिले के सभी तहसील को जोड़ती है। सिकंदराराऊ विधायक ने सलेमपुर की जमीन का हवाला दिया। यहाँ जमीन का विवाद का जिक्र किया गया।डीएम सिर्फ सीवरेज की जमीन का मुआयना करने गए। मौके पर भर्ती मरीज के आने जाने में दिक्कतें रहती हैं। फिर भी सबसे पहले इसी तरह की जमीन का प्रस्ताव भेज दिया गया है। चर्चा यहाँ कई सफेद पोश लोगों की जमीन के आसपास है। इसलिए रोगी की सुविधा बाद में स्वयं की जमीन का हाई रेट चाहिए। चर्चा यह अभी भी जिला प्रशासन पराग डेरी और सलेमपुर मैदान का मौका मुआयना करेगा।  वैकल्पिक व्यवस्था के लिए सासनी के पास सुसायत कलां में राष्ट्रीय राजमार्ग 93 की ज़मीन पर भी गम्भीरताहै

मामला तक पहुंच गया

मेडिकल कॉलेज के लिए उपयुक्त ज़मीन मिले। वाहन आसानी से बाहर निकलें। कोई असुविधा नहीं। बुद्धजीवियों और अन्य कई जनप्रतिनिधियों ने इस मामले को गम्भीरता से लिया है। इसके लिए स्वास्थ्य मंत्री, मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव को पत्र लिखकर अवगत करा दिया गया है।

पूर्व मंत्री ने भूमि चयन में सुविधा पर दिया जोर

पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय ने मेडिकल कॉलेज की स्थापना के लिए चारों और से संपर्क करने वाली जमीन को लेकर जिलाधिकारी से मुलाकात की और ज्ञापन सौंप दिया। कहा कि किसी विशेष की सुविधा पर विचार नहीं किया जाएगा। चारों ओर से लिस्ट रोड पर मेडिकल कॉलेज की स्थापना होनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here