मैं जब मर जाऊँ तो मेरी अलग पहचान लिख देना लहू से मेरी पेशानी पर हिंदुस्तान लिख देना

0
100

जाने माने उर्दू शायर अब दुनिया में नहीं रहे। उनके निधन की खबर सुनते ही शोक की लहर दौड़ गई। लोगों ने शोक में उनकी शायरी को फेसबुक पर जमकर लिखीं। मीडिया से लेकर सामाजिक और राजनीतिक संगठनों ने शोक व्यक्त कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here