सोशल मीडिया का ध्यान रखकर होगा विकास

0
303

बदली परिस्थितियों में हमें और अधिक संवेदनशील होने की आवश्यकता है
डीएम
राजीव शर्मा ।अलीगढ़ सभी खण्ड विकास  अधिकारी  गांवों में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुये विकास का पहिया घुमायें। कोविड-19 वायरस के संक्रमण को देखते हुये प्रदेश सरकार द्वारा लिये गये निर्णयों के अनुसार अभी तक सारे कार्य बंद करा दिये गये थे, अब धीरे-धीरे शासन द्वारा नियम व शर्तों के साथ विकास एवं निर्माण कार्य कराये जाने की छूट प्रदान की जा रही है, ऐसे में सभी बीडीओ अपने-अपने क्षेत्रों में मनरेगा, जल संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण, पौधरोपण, औद्योगिक इकाइयों आदि का संचालन आरम्भ करायें।
जिलाधिकारी चन्द्र भूषण सिंह गुरूवार को कलक्टेªट सभागार में विकास कार्यों से जुड़े अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। डीएम ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण के बचाव के चलते ग्रामीण अर्थव्यवस्था डगमगा रही है, लोग काम करना चाहते हैं, सामाजिक दूरी बनाये रखते हुये उन्हें काम मुहैया कराया जाय। लोगों को समझाया जाये कि वह अपने गाॅव घरों में रहते हुये अपने क्षेत्र में ही रोजगारपरक इकाइयों से जुडें। उन्होंने कहा कि तहसील, विकास खण्ड एवं ग्राम स्तरीय अधिकारी कर्मचारी ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिये कृषि को उद्योग से जोड़ने की विभिन्न तरकीबों का इस्तेमाल करते हुये रोजगार के विभिन्न आयामों पर भी चर्चा करें।
मुख्य विकास अधिकारी अनुनय झा ने खण्ड विकास अधिकारियों के प्रति कडी नाराज़गी प्रकट करते हुये कहा कि अभी तक लगभग 500 ग्राम पंचायतों में मनरेगा से जुड़े कार्य चालू नहीं कराये गये हैं, उन्हें शीघ्र चालू कराया जाये, अन्यथा की दशा में कार्यवाई की जायेगी। शासन के निर्णय के अनुसार श्रमिक विभिन्न प्रान्तों से अपने-अपने गाॅव की तरफ लौटना आरम्भ हो गये है, हर हाथ को काम मिले इसलिये पात्र व्यक्ति का मनरेगा जाॅब कार्ड बनाया जाये, इसके लिये शिविर लगाने की आवश्यकता है तो शिविर लगाते हुये मनरेगा जाॅब कार्ड बनाये जायें, साथ ही अपात्रों के जाॅब कार्ड निरस्त भी किये जायें। उन्होंने कहा कि कि इन बदली हुयी परिस्थितियों में हम सभी को और अधिक संवेदनशील होने की ज़रूरत है। मनरेगा से जल संरक्षण के लिये तालाब की खुदाई आरम्भ की जाये, पर्यावरण संरक्षण की दिशा में वृक्षारोपण हेतु गढढे खोदे जायें। नहरों एवं ट्यूबैल के माध्यम से तालाबों में पानी भराया जाये। सीडीओ ने निर्देश दिये कि छूटे हुये शौचायल, सामुदायिक शौचालय एवं आपरेशन कायाकल्प के तहत विभिन्न प्रकार के कार्यों को तत्काल आरम्भ कराया जाये। उन्होंने कहा कि 3 दिनों के भीतर विकास कार्यों को प्रत्येक ग्राम पंचायत में शुरू करा दिया जाये, लापरवाही पर बीडीओ कार्यवाई के लिये तैयार रहें। उन्होंने कहा कि ग्रामों में नये हैण्डपम्प लगाये जाने पर ध्यान न देते हुये जो पुराने हैण्डपम्प स्थापित हैं और किसी वजह से खराब पडे हैं उन्हें आवश्यकतानुसार मरम्मत करा कार्य योग्य बनाया जाये। उन्होंने बताया कि सरकार हर घर नल योजना के तहत कार्य कर रही है, जिसमें हर घर में पानी संयोजन उपलब्ध कराया जायेगा। बैठक में परियोजना निदेशक डीआरडीए, उपायुक्त उद्योग, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, डीपीआरओ, खण्ड विकास अधिकारीगण उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here